भारत की 5 सबसे रहस्यमयी किताबें | पुस्तक | आयुर्वेद | ज्योतिष | रहस्य | वेद

भारत की 5 सबसे रहस्यमयी किताबें

भारत की 5 सबसे रहस्यमयी किताबें यह हमारा रहस्यों से भरा भारत न जाने अपने गर्भ में कितनी सारी अद्भुत और रहस्यमई चीजों को रखे हुए हैं कुछ का तो पता प्राचीन किताब और शास्त्रों से चलता है पर कुछ तो इतनी ज्यादा रहस्यमई और अद्भुत है जिसका एक भी छोर पार कर पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है सोचिए जिस किताबों से रहस्य का पता चलता है अगर वह किताब भी रहस्यमय हुई तो जी हां दोस्तों आज हम आपको बताएंगे कि भारत की 5 सबसे प्राचीन और रहस्यमई किताबों के बारे में जिसका जिक्र जिसका ज्ञान अद्भुत है और अकल्पनीय है इन किताबों के ज्ञान को पढ़ कर ऐसा लगता है कि ये किताबें अति प्राचीन है यह किताबें आखिर क्यों लिखी गई

भारत की 5 सबसे रहस्यमयी किताबें

 

Ravan Samhita

रावण संहिता कहा जाता है कि रावण द्वारा रचित रावण संहिता में ज्योतिष आयुर्वेद तंत्र से जुड़ी तमाम ऐसे जानकारियां हैं जो की अचूक मानी गई है यह किताब बहुत प्राचीन है और आज के समय में इसकी असली होने की प्रामाणिकता कोई नहीं दे सकता जिस तरह लाल किताब के नाम पर नकली किताब मिलती है ठीक उसी तरह रावण संहिता के नाम पर नकली रावण संहिता मिलती है लेकिन ऐसा भी कहा जाता है कि रावण संहिता की एक प्रीति देवनागरी लिपि में देवरिया जिले के गांवों में सुरक्षित रखी गई है कहते हैं रावण ने किस ग्रंथ की रचना की थी उसमें शिव तांडव स्त्रोत और रावण संहिता प्रमुख है

Betaal Pachisi

बेताल पच्चीसी हम सभी बेताल पच्चीसी की कहानी से अवगत हैं जो कि भारत की सभी लोकप्रिय कथाओं में से एक है यह कथा राजा विक्रम की शक्ति का बोध कराती है जिसमें बेताल कहानी सुनाता है और अंत में राजा से एक प्रश्न कर देता है उसका उत्तर देना ही पड़ता है उसने शर्त लगा रखी है कि अगर बोलेगा तो वह भाग जाएगा लेकिन यह जानते हुए भी कि सवाल सामने आने पर राजा चुप नहीं रह सकता इसे भारत की पहली घोस्ट स्टोरी माना जाता है माना जाता है कि बेताल पच्चीसी कहानी का स्रोत राजा सातवाहन के मंत्री गुणाढ्य द्वारा रचित बढ़ता नामक ग्रंथ को दिया जाता है जिसकी रचना ईसापुर 495 में हुई थी कहा जाता है कि यह किसी पुरानी प्राकृतिक भाषा मे लिखी गयी है

Ashtadhyayi 

अष्टाध्यायी योग सूत्र द्वारा रचित दुनिया की प्रथम भाषा का प्रथम व्याकरण ग्रंथ आई है जो पहले की है इसमें 8 अध्याय है इसलिए कहा जाता है कि योग सूत्र को समझने के बाद आपको जिस ज्ञान की प्राप्ति होगी वो दुनिया की किसी और अन्य व्यक्ति की किताबों से नहीं मिलेगा क्योंकि यह ज्ञान शुद्ध हिंदी ग्रंथ पर महा मुनि का विस्तृत ग्रंथ है और इसी तरह पतंजलि ने इस ग्रंथ महाभाग्य योग अष्टांग योग की चर्चा की गई है यह अष्टांग योग दुनिया के सभी धर्मों के ग्रंथ और दुनिया के सभी तरह के दर्शन का सार है जो कि बहुत फलदाई है  

Vimana Shastra

विमान शास्त्र एक रहस्य किताब है जिनकी रचना ऋषि भारद्वाज ने की थी उन्होंने अपनी किताब में विमान बनाने की तकनीक का उल्लेख किया है उस का प्रचलन आधुनिक युग में भी होने लगा है ऋषि भारद्वाज ने यंत्र सर्वस्व नामक वृहद ग्रंथ की रचना की थी अंत का कुछ भाग ब्रह्मा मुनि ने विमान शास्त्र के नाम से प्रकाशित करवाया था कहते हैं इस ग्रंथ में उच्च और निम्न स्तर पर विचरण करने वाले विमानों के लिए विभिन्न धातुओं के निर्माण का विवरण मिलता है

Parad Vigyan

पारद विज्ञान पुस्तक हिमाचल के निर्माण जिले में 28 वर्ष पुरानी पारद विज्ञान नामक पुस्तक मिली है इस 1052 की पुस्तक में शहीद हुए हैं इसके बारे में राष्ट्रपति मिशन ही बता सकते हैं इस पुस्तक के ऊपर आ जा रहा है पारद विज्ञान यानी केमिस्ट्री की प्राचीन पुस्तक जिसमें शायद आयुर्वेद तंत्र ज्योतिष की वर्तमान जानकारियां उपलब्ध होगी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: